अग्नि स्‍कंध


अग्नि स्‍कंध केन्‍द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल का आंतरिक भाग है जो देश की सभी अग्नि
सेवाओं में सबसे बड़ा है तथा तकनीकी पृष्‍ठभूमि रखने वाले व्‍यावसायिक रूप से
प्रशिक्षित कार्मिकों द्वारा व्‍यवस्थित है।


      दिनांक 16.04.1970 को पहल अग्नि स्‍कंध यूनिट की शुरूआत 56 कार्मिकों की
स्‍वीकृत क्षमता के साथ फर्टिलाइजर एंड केमिकल ट्रेवनकोर (एफ.ए.सी.टी) में हुई।
सी.आई.एस.एफ ही एकमात्र ऐसा केन्‍द्रीय सशस्‍त्र पुलिस बल है जिसका अग्नि सेवा
स्‍कंध पूर्ण रूप से विकसित है। देश में सी.आई.एस.एफ का अग्नि सेवा विंग व्‍यापक
रूप से व्‍यावसायिक
,
सुप्रशिक्षित तथा साधनों से सज्जित अग्नि शमन बल है जो पेट्रो-केमिकल
कॉम्‍प्‍लेक्‍स
,
रिफाइनरी (शोधन शाला)
,
स्‍टील संयंत्रों
,
केमिकल एंड फर्टिलाइजर संयंत्रों
,
पत्‍तन-प्रबंध
,
अंतरिक्ष संगठनों
,
पावर संयंत्रों
,
रक्षा मंत्रालय की संस्‍थापनाओं तथा वित्‍त मंत्रालय के अधीन स्‍थापनाओं जैसी अति
संवेदनशील
,
असुरक्षित/भेद्य तथा जोखिम वाली यूनिटों को अग्नि संरक्षण तथा अग्नि सुरक्षा प्रदान
कर रहा है। सी.आई.एस.एफ का अग्नि स्‍कंध 6769 अग्नि व्‍यावसायिक कार्मिकों की
क्षमता के साथ पूरे देश में फैली 90 अलग-अलग संस्‍थापनाओं को अग्नि सुरक्षा प्रदान
कर रहा है। पिछले तीन वर्षों में सी.आई.एस.एफ के अग्नि स्‍कंध ने प्रतिवर्ष औसतन
80.34 करोड़ रू0 की राष्‍ट्रीय संपत्ति की रक्षा की है।


      इसके अलावा सी.आई.एस.एफ अग्नि स्‍कंध जोखिम मूल्‍यांकन
,
निरीक्षण तथा अग्नि लेखा परीक्षा
,
अग्नि परामर्श
,
नवीन अग्नि सुरक्षा प्रौद्योगिकियों की शुरूआत करने तथा विभिन्‍न संयंत्रों का
सर्वेक्षण और पुन: सर्वेक्षण करने संबंधी मामलों में अग्नि सुरक्षा के क्षेत्रों
में एकीकृत एवं लागत प्रभावी समाधान प्रदान कर रहा है।