सीआईएसएफ अग्निषमन सेवा

 
Pic 1 Pic 2
 

Pic 4

     29 जनवरी, 1964 को रांची में हैवी इंजीनियरिंग कारपोरेशन प्लांट में एक बड़ी आग लगने के कारण भारी क्षति हुई। जस्टिस बी मुखर्जी की अध्यक्षता में गठित आयोग ने तोडफोड़ को आग का कारण माना। जस्टिस बी मुखर्जी ने सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को अग्नि और सुरक्षा उपलब्ध करवाने का उत्तरदायित्व सौंपने के लिए एक अनुशासित और समेकित बल की अनुशंसा की।  

Pic 5

      फर्टिलाइजर्स एंड कैमिकल त्रावणकोर (एफएसीटी) कोचीन में 16.04.1970 को 53 बल कार्मिकों की नफरी के साथ अग्नि स्कंध इकाई की शुरुआत हुई। अंततः भारत सरकार ने जनवरी 1991 में सीआईएसएफ में अलग से एक अग्नि सेवा संवर्ग के सृजन हेतु विविध पदों के लिए भर्ती नियमों का अनुमोदन किया और तदनुसार, अग्नि सेवा संवर्ग ने सीआईएसएफ में 12.01.1991 से कार्य करना शुरु किया। वर्तमान में यह 102 की कुल कार्यात्मक संख्या के साथ सार्वजनिक क्षेत्र के निकायों/अधिष्ठापनों में कार्यरत है।

 
भारत में अग्नि सेवाओं की शुरुआत 19वीं शताब्दी के प्रारंभ में बम्बई एवं कलकता जैसे प्रमुख पत्तनों एवं शहरों से हुई।
 

केऔसुब के अग्नि स्कंध का सिंहावलोकन

      अग्नि स्कंध केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल का एक अविभाज्य अंग है जो देषभर की अग्नि सेवाओं में सबसे बड़ा है जिसका प्रबंधन विज्ञान और इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले प्रषिक्षित कार्मिकों द्वारा प्रोफेषनल रूप से किया जाता है। प्रथम अग्नि इकाई फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल ट्रावनकोर (एफएसीटी) कोचीन में 16.04.1970 को शुरू की गई थी जिसकी स्वीकृत नफरी 53 कार्मिकों की थी।

 

      केऔसुब एकमात्र ऐसा केन्द्रीय सषस्त्र पुलिस बल है जिसके पास अपना पूर्ण रूप से विकसित अग्नि सेवा स्कंध है। केऔसुब अग्नि सेवा देष में सबसे बड़ा प्रोफेषनल, सुप्रषिक्षित और सुसज्जित अग्निरोधी बल है जो पेट्रो रसायन काॅम्पलेक्स, आॅयल रिफाइनरी, इस्पात संयंत्र, रसायन और उर्वरक संयंत्रों, पत्तन ट्रस्ट, अंतरिक्ष संगठनों, ऊर्जा संयंत्रों, रक्षा प्रतिष्ठानों और वित्त मंत्रालय के अधिष्ठापनों जैसे अतिसंवेदनषील, आघात योग्य और खतरे वाली इकाईयों को अग्नि से सुरक्षा और अग्नि से संरक्षण प्रदान कर रही है। केऔसुब का अग्नि स्कंध 7549 अग्नि प्रोफेषनल की नफरी के साथ देषभर में 102 विभिन प्रतिष्ठानों को आग से सुरक्षा प्रदान कर रहा है।

 

      केऔसुब के पास एक अग्नि सेवा प्रषिक्षण संस्थान (एफएसटीआई) है जिसकी स्थापना देवली, राजस्थान में वर्ष 1987 में 84 कार्मिकों की स्वीकृत संख्या के साथ की गई। बाद में, एफएसटीआई को केऔसुब निसा कैम्पस हाकिमपेट में 1999 में स्थानांतरित कर दिया गया। बाद में इसका उन्नयन किया गया और अब इसमें शारीरिक अभ्यास के लिए मैदान, ड्रिल प्रयोजनों के लिए ब्लैक टाॅप, सिमुलेषन अभ्यास के लिए इन्डस्ट्रियल फायर टाॅवर, रेस्क्यू ड्रिल के लिए ड्रिल टाॅवर, सिमुलेटर अभ्यास के लिए बीए गैलरी, माॅडल फायर स्टेषन, एमटी सेक्षन, सीएसएसआर, एएसएआर, यूएसएआर प्रोप्स एरिया, माॅडल रूम, प्रयोगषाला, सिमुलेटर्स के साथ विषिष्ट प्रषिक्षण उपस्करों के साथ प्रौद्योगिकीय केन्द्र, तरणताल, पुस्तकालय, 147 अग्नि प्रोफेषनल की नफरी के साथ प्रौद्योगिकी एवं प्रषासनिक भवन जैसी अत्याधुनिक सुविधाएं शामिल हैं।

 

      अग्नि स्कंध के कार्मिकों के लिए प्रषिक्षण आवष्यकताएं अत्यधिक विषिष्ट होती है। उन्हें प्रभावकारी प्रस्तुतिकरण और आधुनिक और उच्च अग्नि जोखिम औद्योगिक सेट-अप के संरक्षण के लिए संगठित किया जाना चाहिए।

 

अग्नि काॅल और बचाई गई संपत्ति का विवरण

क्रम वर्ष अग्नि काॅल बचाई गई संपत्ति, लगभग रूपए
1 2013 3735 111.83 करोड़
2 2014 4528 137.50 करोड़
3 2015 4067 219.51 करोड़
4 2016 3951 326.80 करोड़
5 2017 3339 64.55 करोड़
Total 36934 1066.24 करोड़
12 2018 2562 13.17 करोड़
 
“आग से क्षति की भरपाई संभव नहीं है”.

हम 75,00…. से अधिक जवानों के बल हैं हम देष के 102 सरकारी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, राज्य सरकार के प्रतिष्ठानों को अग्नि सुरक्षा संरक्षण प्रदान कर रहे हैं।

  • केऔसुब अकादमी निसा, क्षेत्रीय प्रषिक्षण केन्द्रों और अग्नि सेवा प्रषिक्षण संस्थान के माध्यम से एकीकृत बहु-दक्ष प्रषिक्षण।
  • सुरक्षा और अग्नि संरक्षण में परामर्ष उपलब्ध करवाना।
  • एफएसीटी-सीडी, कोचीन में अप्रैल 1970 में प्रथम अग्नि इकाई की शुरूआत की गई।
  • प्रभावकारी अग्नि बचाव अग्नि सुरक्षा, अग्नि रोधी और निरीक्षण के लिए 1991 में केऔसुब में एक अलग अग्नि सेवा संवर्ग बनाया गया।
  • प्रभावकारी अग्नि सुरक्षा उपलब्ध करवाने के लिए केन्द्र/राज्य सरकारों के उपक्रमों में अग्नि प्रोफेषनल को शामिल किया गया।
  • अग्नि प्रौद्योगिकी और आग से जूझने वाली तकनीकों के क्षेत्र में अग्नि सेवा स्वयं को आधुनिक गतिविधियों के प्रति सचेत रखती है।
  • उपक्रमों में नियमित अंतरालों में विविध अग्नि सुरक्षा स्कीमों की निगरानी के लिए उपयुक्त कदम उठाए गए हैं।
  • 7549 की कुल नफरी के साथ 102 विभिन्न पीएसयू को अग्नि सुरक्षा की कवरेज उपलब्ध करवाना।
  • अग्नि अभियांत्रिकी और विज्ञान के क्षेत्र में योग्यताओं वाले तकनीकी रूप से दक्ष अग्नि स्कंध के व्यवसायिक कार्मिक।
  • एकमात्र ऐसा सीएपीएफ है जिसके पास अपनी विषिष्ट अग्नि सुरक्षा परामर्ष स्कंध है।
pic 6 pic 7 pic 8
 
“अग्नि जानलेवा है, आप इसे रोक सकते हैं”.
 
Pic 9
 
“हमारी उपस्थिति” पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस (तेल रिफाइनरियां/गैस निष्कर्षण/पत्तन न्यास/थर्मल एवं हाइड्रो ऊर्जा संयंत्र/उर्वरक एवं रसायन उद्योग/इस्पात एवं खनन/भारी उद्योग/रक्षा/विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी/ कोयला/सिक्योरिटी पेपर मिल/करेंसी प्रिंटिंग प्रेस (वित्त) विरासत स्मारक/संग्रहालय/कोयला)
pic 10 pic 11 pic 12 pic 13
Pic 14

हैदराबाद में स्थित अग्नि सेवा प्रषिक्षण संस्थान हमारा प्रतिष्ठित प्रषिक्षण संस्थान है जो अधनातुन सुविधाओं के साथ एषिया में सबसे अधिक प्रोफेषनल रूप में प्रबंधन किए गए संस्थानों में से एक है जो अग्नि शमन से संबंधित विषयों और आपदा प्रबंधन में प्रषिक्षण प्रदान कर रहा है।

अग्नि और आपदा प्रबंधन विविध प्रकार की आपदाओं में भारत की अतिसंवेदनषीलता के कारण सबसे अधिक प्रचलित शैैक्षणिक/व्यवसायिक पाठ्यक्रम है, अग्नि सुरक्षा और आपदा प्रबंधन में हमारी जानकारी विभिन्न अग्नि सुरक्षा और आपदा प्रबंधन पाठ्क्रमों को चलाने में मददगार होगी जो कि अंतोगत्वा राष्ट्र की क्षमता बढ़ाने में सहायक होगी।
Pic 15
  • पेट्रोरसायन उद्योगों में अग्नि सुरक्षा
  • ऊर्जा संयंत्रों में अग्नि के जोखिम
  • अग्नि सुरक्षा रासायनिक और उर्वरक संयंत्र
  • उद्योग पाठ्यक्रम में सामान्य अग्नि सुरक्षा
  • विमानन अग्नि संरक्षण पाठ्यक्रम
  • अग्नि द्वारा रोप बचाव पाठ्यक्रम
  • श्वसन संबंधी उपकरणों से संबंधित पाठ्यक्रम
  • अग्नि ड्रिल निर्देषक पाठ्यक्रम
  • वर्टीकल में अन्तक्रिया पाठ्यक्रम
  • सड़क यातायात दुर्घटना और सीमित बचाव पाठ्यक्रम
  • डीसीपी का प्रचालन और अनुरक्षण और बचाव टेंडर पाठ्यक्रम
  • अग्नि सुरक्षा लेखा कार्यषाला
  • अग्नि सुरक्षा परामर्षी पाठ्यक्रम
  • प्री-डिस्पैच निरीक्षण पाठ्यक्रम

अग्नि सेवा प्रशिक्षण संस्थान में प्रशिक्षणार्थियों के लिए उपलब्ध अवसंरचना

Pic 16 Pic 17 Pic 18
हमारे सहयोगी सगठनों अर्थात ओएनजीसी, इन्फोसिस, एपी अग्नि सेवा, इसरो आदि में प्रदान किए गए प्रषिक्षण

अग्नि सुरक्षा लेखा एवं परामर्षी सेवाएं

केऔसुब अग्नि स्कंध के अमूर्त लाभ
  • समग्र अग्नि और सुरक्षा प्रदान करना:-
    • अग्निषमन प्रतिष्ठानों और प्राथमिक चिकित्सा अग्निषमन उपकरण का रख- रखाव और परिचालन करना।
    • अग्नि प्रौद्योगिकी, अग्निषमन तकनीक के क्षेत्र में आधुनिक विकास के साथ तालमेल बनाना।
    • प्रक्रिया, भंडारण, अन्य बुनियादी ढांचे इत्यादि में अग्नि जोखिम/खतरों का सही मूल्यांकन करना और विभिन्न अग्निरोधी/सुरक्षा योजनओं की निगरानी के लिए उपयुक्त कदम उठाना।
    • अग्नि परामर्षी सेवाएं प्रदान करना।
    • क्षेत्र में नवीनतम तकनीकों के साथ तालमेल बनाए रखना और विषेष रूप से औद्योगिक अग्नि सुरक्षा और संरक्षण के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय मानकों को पूरा करते हुए प्रषिक्षण देना।
    • अग्नि और अन्य घटनाओं की जांच करना और निवारक उपायों का सुझाव देना।
  • विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में लंबे वर्षों के अनुभव से सम्मानित कौषल।
  • पूरे देष में तकनीकी रुप से कुषाग्र बल की तैनाती।
  • देष के पूर्वोत्तर क्षेत्र में अत्यधिक प्रभावित क्षेत्रों से वामपंथ अतिवाद के प्रभावित क्षेत्रों में विविध सुरक्षा वातावरण का सामना करना।
  • अत्यधिक संवेदनषील तेल शोेधन, थर्मल-गैस-हाइड्रो पावर, रासायनिक एवं उर्वरक, रक्षा, भारी उद्योग, संग्रहालय अर्थव्यवस्था के मुख्य क्षेत्र से लेकर विभिन्न क्षेत्रों की सुरक्षा और संरक्षण में समृद्ध अनुभव।
  • विषेष कौषल वाले उच्च प्रषिक्षित कर्मियों से बना केवल एक पूर्ण सुरक्षा और अग्नि स्कंध वाला बल।
  • आधुनिक अग्नि सुरक्षा गजेट्स और अत्याधुनिक तकनीकों के व्यापक उपयोग के साथ कर्मियों का एकीकृत बहुकौषल प्रषिक्षण।
  • कानूनी शक्तियों के साथ अनुषासित बल।
  • तात्कालिक सूझबूझ, विनम्र व्यवहार और पेषेवर दृष्टिकोण के लिए व्यापक रूप से सराहना प्राप्त बल।
  • आपदा प्रबंधन कौषल और अनुभव में प्रषिक्षित हमारे कर्मियों के आधार पर ग्राहक संगठन को महत्व प्रदान करना।
  • हमारी परामर्ष सेवाएं सुरक्षा और अग्नि सुरक्षा के क्षेत्र में आईएसओ 9001-2008 प्रमाणित है।
केऔसुब का अग्नि स्कंध जोखिम आकलन, निरीक्षण और अग्नि लेखा, अग्नि संबंधी परामर्षी सेवाओं, विभिन्न संयंत्रों में नूतन अग्नि सुरक्षा प्रौद्योगिकियों की शुरूआत और उनके सर्वेक्षण एवं पुनः सर्वेक्षण के अनुसरण में अग्नि सुरक्षा के क्षेत्र में समेकित और कम लागत के समाधान भी प्रदान करता है।
केऔसुब व्यवसायिक और दक्ष कार्मिकों की टीम के माध्यम से अग्नि सुरक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता परक परामर्ष संबंधी सेवाएं और अग्नि सुरक्षा लेखों को उपलब्ध करवाने के लिए प्रतिबद्ध है। फोकस स्थापित प्रबंधन प्रणाली में सतत् सुधार के माध्यम से ग्राहक संतुष्टि को बढ़ाने की तरफ होगा। केऔसुब अपने ग्राहकों को संपूर्ण अग्नि सुरक्षा और संरक्षण समाधानों को प्रदान करता है और अग्नि सुरक्षा प्रणालियों की स्थिति के संबंध में सूचना उपलब्ध करवाती है जिसमें निम्न षामिल है:
  • मुख्य अग्नि खतरे और जोखिमों का विष्लेषण।
  • प्रमुख खतरों और आषंकाओं को पहचानना।
  • मौजूदा अग्नि संरक्षण उपाय एवं मानव श्रम।
  • निम्न तरीकों द्वारा गैप विष्लेषण पर आधारित अग्नि सुरक्षा प्रबंधनों का निरीक्षण और सिफारिषेंः-
  • आवष्यकता पर आधारित उपस्कर/उपकरणों पर विचार किया जाता है और अपेक्षित सीमा तक उनके समेकन पर विचार किया जाता है।
  • अग्निरोधी और संरक्षण के लिए अपेक्षित मानव श्रम का अनुमान लगाया जाता है और उनके कत्र्तव्यों को भली-भांति बताया जाता है। इस मानव श्रम का निर्धारण वित्तीय बाध्यताओं को ध्यान में रखते हुए मानव और मषीन के अधिकतम प्रयोग के सिद्धांत पर आधारित किया जाता है।
  • मानव श्रम की नियुक्ति और नियुक्ति के प्रकार को उनके कत्र्तव्यों और उत्तरदायित्वों के साथ निर्धारण किया जाता है। मौजूदा सारे सामान का आकलन किया जाता है और नए सामान और उनके समेकन के साथ अपेक्षित सुधार किए जाते हैं।
  • मौजूद प्रणाली को सषक्त बनाने के लिए सभी उपाय किए जाते हैं। इसमें न केवल अग्नि रोधी उपाय शामिल होते हैं अपितु अग्नि दुर्घटनाओं को रोकने के लिए अग्नि संरक्षण भी शामिल है।
  • अग्नि संरक्षण का आकलन करने के लिए एक आंतरिक लेखा प्रक्रिया को विकसित किया गया है। इसमें मानदंडों पर आधारित सघन जांच सूची/दिषा निर्देष षामिल है।
  • अन्य आग्नेय सुरक्षा पहलू, जिन पर जोर दिए जाने की आवश्यकता है वे खतरों पर निर्भर करते है।
  • अग्नि सुरक्षा के अन्य पहलू जिन पर जोर दिए जाने की आवष्यकता है, उन पर गैर-अनुपालना के मामले में संबंधित मानको और सुधारात्मक कार्रवाई से अनुषंसा के साथ खतरों/जोखिम विष्लेषण पर आधारित होते हैं।
“एक युद्ध क्षेत्र अध्ययन के लिए अवसर नहीं देता है, एक जनरल वही लागू करता है जो वह पहले से जानता है”

केऔसुब फायर सर्विसेज को आपकी अग्नि सुरक्षा को पूरा करने के लिए केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (गृह मंत्रालय) 13,सीजीओ कॉम्प्लेक्सए लोधी रोड , नई दिल्ली .110003 Ph.-011-24361453,24361233 ई.मेल: digfir[at]cisf[dot]gov[dot]in